20 famous lal bahadur shastri quotes

lal bahadur shastri quotes, lal bahadur shastri biography, lal bahadur shastri date of birth, lal bahadur shastri death, लाल बहादुर शास्त्री के विचार
lal bahadur shastri quotes, लाल बहादुर शास्त्री के विचार

hindi online jankari ke manch par lal bahadur shastri biography in hindi aur lal bahadur shastri quotes in hindi padhne ke liye aapka swagat hai.

lal bahadur shastri biography ( लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय ) -:

लाल बहादुर शास्त्री जी एक महान व्यक्तित्व थे। उनका कद भले ही छोटा था लेकिन उनका जीवन सच्चे आदर्शों से भरा हुआ महासागर की तरह विशाल। लाल बहादुर शास्त्री जी एक साफ-सुथरी छवि वाले, ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ व्यक्ति थे जिन्होंने अपना सारा जीवन देश और समाज की सेवा में अर्पित किया। वह भारत के दूसरे प्रधानमंत्री रहे।

लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म एक बहुत ही साधारण परिवार में 2 अक्टूबर 1904 ( lal bahadur shastri date of birth ) को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ।

इनकी माता का नाम रामदुलारी श्रीवास्तव और पिता का नाम मुंशी-शारदाप्रसाद श्रीवास्तव था। मात्र 18 महीने की आयु पर ही इनसे इनके पिता का साया छूट गया। इतनी कम उम्र में पिता के देहांत के बाद इन की परवरिश मां के आंचल में हुई। अपने पति के देहांत के बाद इनकी माता ने भी अपने तीन बच्चों के साथ अपने ननिहाल मिर्जापुर आना ठीक समझा। जिससे लाल बहादुर शास्त्री जी की प्राथमिक शिक्षा उनके ननिहाल में ही हुई। शिक्षा में निपुण होने के कारण इन्होंने अपनी उच्च स्तरीय शिक्षा काशी विद्यापीठ से ग्रहण की, जहां से उन्होंने संस्कृत में स्नातक की उपाधि ली।

संस्कृत में स्नातक की उपाधि को “शास्त्री” कहा जाता है और यही वजह है कि लाल बहादुर शास्त्री जी ने अपने नाम के पीछे से अपनी जाति “श्रीवास्तव” को हटाकर “शास्त्री” का इस्तेमाल किया क्योंकि उन्हे जातिवाद से बहुत नफरत थी।

सन् 1927 में इनका विवाह मिर्जापुर की ललिता जी से हुआ। इनकी 6 संतानें पैदा हुई जिनमें से दो पुत्रियां और 4 पुत्र हुए।

lal bahadur shastri quotes, lal bahadur shastri biography, lal bahadur shastri date of birth, lal bahadur shastri death, लाल बहादुर शास्त्री के विचार
lal bahadur shastri quotes, लाल बहादुर शास्त्री के विचार

लाल बहादुर शास्त्री जी ने स्वाधीनता संग्राम में अपनी सक्रिय भागीदारी निभाई और कई बार जेल भी गए। इनके राजनीतिक पथ-प्रदर्शक महात्मा गांधी, पुरुषोत्तम दास टंडन, गोविंद बल्लभ पंत और जवाहरलाल नेहरू थे तथा इनके ऊपर गांधीवादी विचारों का काफी प्रभाव था।

स्वतंत्रता के बाद लाल बहादुर शास्त्री जी को उत्तर प्रदेश सरकार में श्री गोविंद बल्लभ पंत के मुख्यमंत्री रहते हुए इन्हें पुलिस एवं परिवहन मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई। इन्होंने अपने कार्यकाल में लाठीचार्ज की जगह पानी की बौछार का उपयोग करने का निर्णय लिया। इनका मानना था कि अपने ही देशवासियों के प्रति लाठीचार्ज का इस्तेमाल बहुत ही निंदनीय कार्य है, अंग्रेजों की गुलामी के समय भी देशवासियों पर लाठियां बरसाई गई और अब जब कि देश स्वतंत्र हो चुका है तब भी लाठीचार्ज का उपयोग उसी गुलामी की याद दिलाएगा। इसलिए इनके द्वारा पानी की बौछार का उपयोग करने का निर्णय लिया गया। इनके इस उपयोग की काफी सराहना हुई।

प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में जब इन्हें रेल मंत्री बनाया गया तब देश में हुई एक रेल दुर्घटना में बहुत जान माल का नुकसान हुआ, जिसकी जिम्मेदारी स्वयं अपने ऊपर लेते हुए रेल मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। तब प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने इस्तीफा स्वीकार करते हुए संसद में कहा कि मैं सिर्फ इसलिए यह इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रहा हूं कि लाल बहादुर शास्त्री जी इस घटना के जिम्मेदार हैं, बल्कि यह इस्तीफा इसलिए स्वीकार कर रहा हूं क्योंकि इससे संवैधानिक मर्यादा में एक मिसाल कायम होगी हम राजनेताओं की जनता के प्रति एक जवाबदेही होगी।
तब संसद में लाल बहादुर शास्त्री जी के इस कार्य की बहुत प्रशंसा हुई थी।

सन् 1962 में प्रधानमंत्री जवाहलाल नेहरू के कार्यकाल में भारत- चीन के युद्ध के दौरान देश की काफी क्षति हुई थी। भारत अभी तक उस क्षति से बाहर भी नहीं आ पाया था तभी 27 मई 1964 के दिन जवाहरलाल नेहरू जी का देहांत हो गया।

तब सदन के सबसे बड़े राजनीतिक दल कांग्रेस ने एक ईमानदार और साफ सुथरी छवि वाले वरिष्ठ नेता लाल बहादुर शास्त्री को प्रधानमंत्री पद के लिए अपना नेता चुना।

भारत-चीन के युद्ध के समय में हुई क्षति, नए प्रधानमंत्री और भारत में बढ़ती हुई खाद्य कीमतों को देखते हुए पाकिस्तान ने इस घटनाक्रम का फायदा उठाने की कोशिश की और सन् 1965 में भारत के साथ युद्ध की घोषणा कर दी। लाल बहादुर शास्त्री जी को अभी कुछ ही समय हुआ था प्रधानमंत्री पद संभाले हुए परन्तु प्रधानमंत्री जी ने अपनी पूर्ण कर्तव्य निष्ठा से अपने पद का कार्यभार संभाला
और भारतीय सेना को पूर्ण आजादी देते हुए कहा कि देश की सुरक्षा करना आपको बेहतर आता है इसलिए आप हम लोगों को बताइए कि हम इस युद्ध में भारतीय सेना की किस प्रकार मदद कर सकते हैं।

lal bahadur shastri quotes, lal bahadur shastri biography, lal bahadur shastri date of birth, lal bahadur shastri death, लाल बहादुर शास्त्री के विचार
lal bahadur shastri quotes, लाल बहादुर शास्त्री के विचार


इस युद्ध में पाकिस्तान की बुरी तरह हार हुई, भारतीय सेना ने पाकिस्तान की जमीन पर काफी अंदर तक के क्षेत्र पर अतिक्रमण कर लिया। लेकिन पाकिस्तान के कहने पर सोवियत संघ (रूस) और अमेरिका द्वारा की गई मिलीभगत ने युद्ध शांत करवा दिया। भारत- पाकिस्तान युद्ध के दौरान ही देश में अनाज का संकट भी पैदा हो गया जिससे देश में खाद्यान्न की कीमतें बहुत ज्यादा बढ़ गई थी। तब अमेरिका ने कुछ शर्तों के साथ मदद की पेशकश की तब शास्त्री जी ने इस शर्तनुमा मदद को लेने से मना कर दिया और इस संकट से निपटने के लिए उन्होंने एक अलग उपाय किया।

लाल बहादुर शास्त्री जी ने पहले अपने पूरे परिवार को 1 दिन का उपवास रखवाया और उन्होंने देखा कि परिवार के किसी भी सदस्य को इस उपवास से कोई तकलीफ नहीं हुई और जब उन्हें इस बात पर पूर्ण भरोसा हो गया कि 1 दिन की भूख बर्दाश्त की जा सकती है तब ही उन्होंने पूरे देश से 1 दिन का उपवास का रखने का आह्वान किया। और भारत देश ने भी उनके इस भरोसे पर पूरा साथ दिया। और देश का हर नागरिक इस क्रांति में शामिल हो गया और 1 दिन का उपवास रखना शुरू कर दिया।

इसी दौरान लाल बहादुर शास्त्री जी ने जय जवान जय किसान का नारा दिया।

भारत-पाकिस्तान के युद्ध की समाप्ति के बाद सोवियत संघ ने समझौते के लिए दोनों देशों को ताशकंद बुलवाया। तब समझौते के दौरान कई सारी शर्तें रखी गई। लाल बहादुर शास्त्री जी को सभी शर्तें मंजूर थी सिवाय एक के। वो पाकिस्तान से जीती हुई जमीन वापिस नहीं देना चाहते थे लेकिन अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाकर शास्त्री जी से समझौते पर हस्ताक्षर करवा लिए गए तब शास्त्री जी ने कहा था कि यह जमीन पाकिस्तान को कोई दूसरा प्रधानमंत्री ही लौटाएगा।

ताशकंद में पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान के साथ युद्ध समाप्त करने के समझौते पर 11 जनवरी 1966 ( lal bahadur shastri death ) को हस्ताक्षर करने के कुछ देर बाद ही रात में संदिग्ध परिस्थिति में उनकी मृत्यु हो गई। अभी भी यह चर्चा का विषय है कि लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु हृदय-आघात या फिर जहर देने से हुई थी।

शास्त्री जी की अंत्येष्टि दिल्ली में यमुना नदी के किनारे पर हुई, इनके अंत्येष्टि स्थल को विजय घाट के नाम से जाना जाता है।

इन्हें 1966 में मरणोपरांत भारत रत्न से नवाजा गया।

Click on the link to read 👉 -: apj abdul kalam motivational quotes in hindi

THANK YOU for reading lal bahadur shastri biography in hindi. now motivate yourself with the famous lal bahadur shastri quotes. And please do give feedback about lal bahadur shastri quotes.

lal bahadur shastri quotes, lal bahadur shastri biography, lal bahadur shastri date of birth, lal bahadur shastri death, लाल बहादुर शास्त्री के विचार
lal bahadur shastri quotes, लाल बहादुर शास्त्री के विचार


lal bahadur shastri quotes ( लाल बहादुर शास्त्री के विचार ) -:

  • ” हम सिर्फ खुद के लिए ही नहीं बल्कि पूरे विश्व की शांति, विकास और कल्याण में विश्वास रखते हैं। ”
  • ” यदि कोई व्यक्ति हमारे देश में अछूत कहा जाता है तो भारत को अपना सर शर्म से झुकाना पड़ेगा। “

“आज़ादी की रक्षा केवल सैनिकों का काम नहीं है। पूरे देश को मजबूत होना होगा। “

लाल बहादुर शास्त्री के विचार, lal bahadur shastri quotes
  • ” हम भले ही अपने देश की आजादी चाहते हैं, लेकिन उसके लिए ना ही हम किसी का शोषण करेंगे और ना ही दूसरे देशों को नीचा दिखाएंगे। मैं अपने देश की स्वतंत्रता कुछ इस प्रकार चाहता हूं कि दूसरे देश उससे कुछ सीख सकें और देश के संसाधनों को मानवता के लाभ के लिए प्रयोग में ले सकें। ”
  • ” भ्रष्टाचार को पकड़ना बहुत कठिन काम है लेकिन मैं पूरे जोर के साथ कहता हूं कि यदि हम इस समस्या से गंभीरता और दृढ़ संकल्प के साथ नहीं निपटते हैं तो हम अपने कर्तव्यों का निर्वाह करने में असफल होंगे। ”

” देश के प्रति निष्ठा सभी निष्ठाओं से पहले आती है और यह पूर्ण निष्ठा है क्योंकि इसमें कोई प्रतीक्षा नहीं कर सकता कि बदले में उसे क्या मिलता है। “

लाल बहादुर शास्त्री के विचार, lal bahadur shastri quotes
  • ” दोनों देशों की आम जनता की समस्याएं, आशाएं और आकांक्षाएं एक समान है। उन्हे लड़ाई – झगड़ा और गोला – बारूद नहीं , बल्कि रोटी, कपड़ा और मकान की आवश्यकता है। ”
  • ” यदि मैं एक तानाशाह होता तो धर्म और राष्ट्र अलग – अलग होते। मैं धर्म के लिए जान तक दे दूंगा, लेकिन यह मेरा निजी मामला है राज्य का इससे कुछ लेना देना नहीं है। राष्ट्र धर्म – निरपेक्ष, कल्याण, स्वास्थ्य, संसार, विदेशी संबंधों, मुद्रा इत्यादि का ध्यान रखेगा
    लेकिन मेरे या आपके धर्म का नहीं, वो सबका निजी मामला है। “
  • ” लोगों को सच्चा लोकतंत्र और स्वराज कभी भी हिंसा और असत्य से प्राप्त नहीं हो सकता। ”

” हमारी ताकत और मजबूती के लिए सबसे जरूरी काम है।
– लोगों में एकता स्थापित करना। ”

लाल बहादुर शास्त्री के विचार, lal bahadur shastri quotes
  • ” जब स्वतंत्रता और अखंडता खतरे में हो, तो पूरी शक्ति से उस चुनौती का मुकाबला करना ही एकमात्र कर्तव्य होता है। हमें एक साथ मिलकर किसी भी प्रकार के अपेक्षित बलिदान के लिए दृढ़तापूर्वक तत्पर रहना है। “
  • ” कानून का सम्मान किया जाना चाहिए ताकि हमारे लोकतंत्र की बुनियादी संरचना बरकरार रहे और हमारा लोकतंत्र भी मजबूत बने। “

” जो शासन करते हैं, उन्हे देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं। अंततः जनता ही मुखिया होती है। “

लाल बहादुर शास्त्री के विचार, lal bahadur shastri quotes
  • ” आर्थिक मुद्दे हमारे लिए सबसे जरूरी हैं, जिससे हम अपने सबसे बड़े दुश्मन ‘ गरीबी ‘ और ‘ बेरोजगारी ‘ से लड़ सकें। ”
  • ” हमारा रास्ता सीधा और स्पष्ट है। अपने देश में सबके लिए स्वतंत्रता और संपन्नता के साथ समाजवादी लोकतंत्र की स्थापना और अन्य सभी देशों के साथ विश्व शांति और मित्रता का संबंध रखना। ”
  • ” मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में एक मामूली कार्यकर्ता के रूप में लगभग पचास वर्ष तक कार्य करना पड़ा है, इसलिए मेरा ध्यान स्वत: ही उन लोगों की ओर तथा उन क्षेत्रों के हालात पर चला जाता है। मेरे दिमाग में यह बात आती है कि सर्वप्रथम उन लोगों को राहत दी जाए । हर रोज हर समय मैं यही सोचता हूं कि उन्हे किस प्रकार से राहत पहुंचाई जाए। ”

” देश की तरक्की के लिए हमें आपस में लड़ने के बजाय गरीबी, बिमारी और अज्ञानता से लड़ना होगा। “

लाल बहादुर शास्त्री के विचार, lal bahadur shastri quotes
  • ” हम सभी को अपने – अपने क्षेत्रों में उसी समर्पण, उसी उत्साह और उसी संकल्प तथा उसी भावना के साथ काम करना होगा जो रणभूमि में एक योद्धा को प्रेरित और उत्साहित करती है। और यह सिर्फ बोलना नहीं है, बल्कि वास्तविकता में कर के दिखाना है। “
lal bahadur shastri quotes, lal bahadur shastri biography, lal bahadur shastri date of birth, lal bahadur shastri death, लाल बहादुर शास्त्री के विचार
lal bahadur shastri quotes, लाल बहादुर शास्त्री के विचार

THANK YOU for reading lal bahadur shastri quotes.

Umeed hai ki aap sabhi pathakon ko lal bahadur shastri biography and lal bahadur shastri quotes ( लाल बहादुर शास्त्री के विचार ) in hindi padh kar achha lga hoga. Agar is lekh me kisi bhi prakar ki koi galti ho to comment kar ke jarur batayen. Lal bahadur shastri quotes ke alava hindi online jankari ke manch par kai mahan vyaktiyon ke motivational quotes aapko padhne ke liye milte hain. Jaise aapne lal bahadur shastri quotes and lal bahadur shastri biography ke is lekh ko pasand kiya hai waise hi aap dusre lekhon ko bhi pasand karenge.

lal bahadur shastri quotes kesaath saath lal bahadur shastri biography se jude hue kuch prshano ke uttar neeche likhe hue hain.

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म कहाँ हुआ था?

लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म एक बहुत ही साधारण परिवार में 2 अक्टूबर 1904 ( lal bahadur shastri date of birth ) को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ।

लाल बहादुर शास्त्री कौन सी जाति के थे?

संस्कृत में स्नातक की उपाधि को “शास्त्री” कहा जाता है और यही वजह है कि लाल बहादुर शास्त्री जी ने अपने नाम के पीछे से अपनी जाति “श्रीवास्तव” को हटाकर “शास्त्री” का इस्तेमाल किया

लाल बहादुर शास्त्री जयंती कब है?

लाल बहादुर शास्त्री जी जयंती 2 अक्टूबर 1904 ( lal bahadur shastri date of birth ) को है

लाल बहादुर शास्त्री के माता पिता का नाम क्या था?

लाल बहादुर शास्त्री की माता का नाम रामदुलारी श्रीवास्तव और पिता का नाम मुंशी-शारदाप्रसाद श्रीवास्तव था।

लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु कब और कैसे हुई?

ताशकंद में पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान के साथ युद्ध समाप्त करने के समझौते पर 11 जनवरी 1966 ( lal bahadur shastri death ) को हस्ताक्षर करने के कुछ देर बाद ही रात में संदिग्ध परिस्थिति में उनकी मृत्यु हो गई।


hello readers, if there in any wrong information and misinformation in lal bahadur shastri biography and lal bahadur shastri quotes. then please do comment. we assure you that we will make it right at that time only.

धन्यवाद thank you

जय हिन्द जय भारत jai hind jai bharat

अन्य लेख -: 👇👇

Atm full information for competition exam

Economy, types of economy and sectors of economy

हरिवंश राय बच्चन की कविताएं

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.