40 famous sardar vallabhbhai patel quotes

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार, सरदार पटेल के प्रेरक सुविचार, Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me
sardar vallabhbhai patel quotes

(sardar vallabhbhai patel quotes ) सरदार वल्लभ भाई पटेल स्वतंत्रता संग्राम के एक महत्त्वपूर्ण योद्धा, एक दूरदर्शी राजनेता, एक सम्माननीय समाजसेवक थे। जिन्हें भारत का लौह पुरुष भी कहा जाता है। सरदार पटेल स्वतंत्रता के बाद भारत के पहले उप – प्रधानमंत्री व गृह मंत्री बनाए गए।

सरदार पटेल के विचार , जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान जनता को भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में कूदने के लिए प्रेरित किया। इस लेख में उन्हीं अनमोल विचारों में से चुने हुए सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार लिखे गए हैं।

तथा आपको ये विचार sardar vallabhbhai patel quotes के रूप में उपलब्ध कराए गए हैं।

सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार समाज के लिए, युवाओं के लिए, देश के लिए, हम सब के लिए एक प्रेरणास्त्रोत हैं। आज जब देश राजनीतिक नपुंसकता से गुजर रहा है तब सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार इस देश के नेताओ के साथ साथ हर नागरिक को पता होना चाहिए। हम सिर्फ उनकी मूर्ति बनाकर नहीं छोड़ सकते। बल्कि इस देश के हर छात्र को सरदार पटेल के विचारों से अवगत कराया जाना चाहिए।

देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने में सरदार पटेल जी का एक महत्त्वपूर्ण योगदान है।
लेकिन वहीं भारत के बंटवारे को लेकर भी सरदार पटेल ने कहा था कि –

” हमने यह महसूस किया है कि यदि हमने विभाजन स्वीकार नहीं किया तो भारत छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित होकर विनष्ट हो जाएगा। कार्यालय में मेरे एक वर्ष के अनुभव से मुझे ज्ञात हुआ कि हम जिस रास्ते पर चल रहे थे वह हमें विनाश की ओर ले जा रहा था। ऐसा करने पर हमारे पास एक नहीं कई पाकिस्तान होते। हमारे प्रत्येक कार्यालय में एक पाकिस्तानी शाखा होती। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार

ऊपर लिखे हुए कथन से पता चलता है कि भारत के बंटवारे को लेकर सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार क्या थे। लेकिन मीडिया और आज के राजनीतिक दलों द्वारा गलत जानकारी और अपवाह को बढ़ावा दिया जाता है।

खैर,
आप खुद sardar vallabhbhai patel quotes ( सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार ) पढ़ें और सोचें इस देश की राजनीति और मीडिया किस तरफ जा रहे हैं।
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार, सरदार पटेल के प्रेरक सुविचार, Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार

Click on the link to read 👉 -: Mahatma Gandhi motivational quotes


sardar vallabhbhai patel quotes ( सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार ) -:

  • आज हमें ऊंच-नीच, अमीर-गरीब, जाति-पंथ के भेदभावों को समाप्त कर देना चाहिए।
  • मनुष्य को ठंडा रहना चाहिए, क्रोध नहीं करना चाहिए। लोहा भले ही गर्म हो जाए, हथौड़े को तो ठंडा ही रहना चाहिए अन्यथा वह स्वयं अपना हत्था जला डालेगा। कोई भी राज्य प्रजा पर कितना ही गर्म क्यों न हो जाये, अंत में तो उसे ठंडा होना ही पड़ेगा।

” मेरी एक ही इच्छा है कि भारत एक अच्छा उत्पादक हो और इस देश में कोई अन्न के लिए आंसू बहाता हुआ भूखा ना रहे। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • आपको अपना अपमान सहने की कला आनी चाहिए।
  • जब जनता एक हो जाती है, तब उसके सामने क्रूर से क्रूर शासन भी नहीं टिक सकता।
    अतः जात-पांत के, ऊँच-नीच के भेदभाव को भुलाकर सब एक हो जाइए।
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार, सरदार पटेल के प्रेरक सुविचार, Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • संस्कृति समझ-बूझकर शांति पर रची गयी है।
    यदि मरना होगा, तो वे अपने पापों से मरेंगे।
    जो काम प्रेम व शांति से होता है, वह वैर-भाव से नहीं होता।
  • अक्सर मैं, ऐसे बच्चे जो मुझे अपना साथ दे सकते हैं, के साथ हंसी-मजाक करता हूँ।
    जब तक एक इंसान अपने अन्दर के बच्चे को बचाए रख सकता है तभी तक उसका जीवन उस अंधकारमयी छाया से दूर रह सकता है, जो इंसान के माथे पर चिंता की रेखाएं छोड़ जाती है।
  • अगर आपके पास शक्ति की कमी है तो विश्वास किसी काम का नहीं।
    क्योंकि महान उद्देश्यों की पूर्ति के लिए, शक्ति और विश्वास दोनों का होना जरूरी है।

” इस देश की मिट्टी में कुछ अलग ही बात है, जो इतनी कठिनाइयों के बावजूद हमेशा महान आत्माओं की भूमि रही हैं। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • अगर हमारी करोड़ों की दौलत भी चली जाए या फिर हमारा पूरा जीवन बलिदान हो जाए तो भी हमें ईश्वर में विश्वास और उसके सत्य पर विश्वास रखकर प्रसन्न रहना चाहिए।
  • अविश्वास भय का प्रमुख कारण होता है।
  • आपके घर का प्रबंध दूसरों को सौंपा गया हो तो यह कैसा लगता है
    – यह आपको सोचना है जब तक प्रबंध दूसरों के हाथ में है तब तक परतन्त्रता है और तब तक सुख नहीं।
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार, सरदार पटेल के प्रेरक सुविचार, Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • उतावले उत्साह से बड़ा परिणाम निकलने की आशा नहीं रखनी चाहिये।
  • एकता के बिना जनशक्ति, शक्ति नहीं है। जब तक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए।
  • कठिन समय में कायर बहाना ढूंढते हैं तो वहीं, बहादुर व्यक्ति रास्ता खोजते है।
  • कठोर-से-कठोर हृदय को भी प्रेम से वश में किया जा सकता है।
    प्रेम तो प्रेम है।
    माता को अपना काना-कुबड़ा बच्चा भी सुंदर लगता है और वह उससे असीम प्रेम करती है।
  • कर्तव्यनिष्ठ पुरूष कभी निराश नहीं होता। अतः जब तक जीवित रहें और कर्तव्य करते रहें, तो इसमें पूरा आनन्द मिलेगा।
  • किसी तन्त्र या संस्थान की पुनः निंदा की जाए तो वह ढीठ बन जाता है और फिर सुधरने की बजाय निंदक की ही निंदा करने लगता है।

” स्वतन्त्रता-प्राप्ति के बाद भी यदि परतन्त्रता की दुर्गन्ध आती रहे, तो स्वतन्त्रता की सुगंध नहीं फैल सकती। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • गरीबों की सेवा ही ईश्वर की सेवा है।
  • जब तक हमारा अंतिम ध्येय प्राप्त ना हो जाए तब तक उत्तरोत्तर अधिक कष्ट सहन करने की शक्ति हमारे अन्दर आये, यही सच्ची विजय है।
sardar vallabhbhai patel quotes ,
Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me,
sardar vallabhbhai patel hd images
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • जो तलवार चलाना जानते हुए भी अपनी तलवार को म्यान में रखता है उसी को सच्ची अहिंसा कहते है।
  • स्वतंत्र भारत में कोई भी भूख से नहीं मरेगा। अनाज निर्यात नहीं किया जायेगा। कपड़ों का आयात नहीं किया जाएगा।
    इसके नेता ना विदेशी भाषा का प्रयोग करेंगे ना किसी दूरस्थ स्थान, समुद्र स्तर से 7000 फुट ऊपर से शासन करेंगे। इसके सैन्य खर्च भारी नहीं होंगे,
    इसकी सेना अपने ही लोगों या किसी और की भूमि को अधीन नहीं करेगी।
    इसके सबसे अच्छे वेतन पाने वाले अधिकारी इसके सबसे कम वेतन पाने वाले सेवकों से बहुत ज्यादा नहीं कमाएंगे
    और यहाँ न्याय पाना ना खर्चीला होगा, ना कठिन होगा।
  • जो मनुष्य सम्मान प्राप्त करने योग्य होता है, वह हर जगह सम्मान प्राप्त कर लेता है
    पर अपने जन्म-स्थान पर उसके लिए सम्मान प्राप्त करना कठिन ही है।
  • त्याग के मूल्य का तभी पता चलता है, जब अपनी कोई मूल्यवान वस्तु छोडनी पडती है।
    जिसने कभी त्याग नहीं किया, वह इसका मूल्य क्या जाने।
  • थका हुआ इंसान दौड़ने लगे तो स्थान पर पहुँचने के बजाय जान गंवा बेठता है,
    ऐसे समय पर आराम करना और आगे बढ़ने की ताकत जुटाना उसका धर्म हो जाता है।

” प्राण लेने का अधिकार तो ईश्वर को है।
सरकार की तोप या बंदूकें हमारा कुछ नहीं कर सकतीं। हमारी निर्भयता ही हमारा कवच है। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • बेशक कर्म पूजा है किन्तु हास्य जीवन है। जो कोई भी अपना जीवन बहुत गंभीरता से लेता है। उसे एक तुच्छ जीवन के लिए तैयार रहना चाहिए। जो कोई भी सुख और दुःख का समान रूप से स्वागत करता है वास्तव में वही सबसे अच्छी तरह से जीता है।
  • बोलने में मर्यादा मत छोड़ना, गालियाँ देना तो कायरों का काम है।
  • हर जाति या राष्ट्र खाली तलवार से वीर नहीं बनता तलवार तो रक्षा-हेतु आवश्यक है,
    पर राष्ट्र की प्रगति को तो उसकी नैतिकता से ही मापा जा सकता है।
  • मान-सम्मान किसी के देने से नहीं मिलते, अपनी योग्यतानुसार मिलते हैं।
  • यह भारत के प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य हैं कि वह अनुभव करे कि उसका देश स्वतन्त्र हैं और देश की स्वतंत्रता की रक्षा करना उसका कर्त्तव्य हैं। अब हर भारतीय को भूल जाना चाहिए कि वह सिख हैं, जाट है या राजपूत। उसे केवल इतना याद रखना चाहिए कि अब वह केवल भारतीय हैं जिसके पास सभी अधिकार हैं, लेकिन उसके कुछ कर्तव्य भी हैं।

” प्रजा का विश्वास, राज्य की निर्भयता की निशानी है। “

sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • विश्वास रखकर आलस्य छोड़ दीजिये, वहम मिटा दीजिये, डर छोड़िये, फूट का त्याग कीजिये, कायरता निकाल डालिए, हिम्मत रखिये, बहादुर बन जाइए, और आत्मविश्वास रखना सीखिए।
    इतना कर लेंगे तो आप जो चाहेंगे, अपने आप मिलेगा।
    दुनिया में जो जिसके योग्य है, वह उसे मिलता ही है।
  • शारीरिक और मानसिक शिक्षा साथ –साथ दी जाये, ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए।
    शिक्षा इस तरह की हो जो छात्र के मन का, शरीर का, और आत्मा का विकास करे।
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभभाई पटेल के अनमोल विचार, सरदार पटेल के प्रेरक सुविचार, Sardar Vallabhbhai Patel ke anmol suvichar hindi me
sardar vallabhbhai patel quotes, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार
  • सच्चे त्याग और आत्मशुद्धि के बिना स्वराज नहीं आएगा।
    आलसी, ऐश-आराम में लिप्त के लिए स्वराज कहाँ।
    आत्मबल के आधार पर खड़े रहने को ही स्वराज कहते हैं।
  • सत्ताधीशों की सत्ता उनकी मृत्यु के साथ ही समाप्त हो जाती है, पर महान देशभक्तों की सत्ता मरने के बाद काम करती है,
    अतः देशभक्ति अर्थात् देश-सेवा में जो मिठास है, वह और किसी चीज में नहीं।
  • सत्य के मार्ग पर चलने हेतु बुरे का त्याग अवश्यक है, चरित्र का सुधार आवश्यक है।
  • सेवा करने वाले मनुष्य को विन्रमता सीखनी चाहिए, वर्दी पहन कर अभिमान नहीं, विनम्रता आनी चाहिए।
  • दुःख उठाने के कारण प्राय: हममें कटुता आ जाती है, द्रष्टि संकुचित हो जाती है और हम स्वार्थी तथा दूसरों की कमियों के प्रति असहिष्णु बन जाते हैं।
    शारीरिक दुःख से मानसिक दुःख अधिक बुरा होता है।

THANK YOU for reading sardar vallabhbhai patel quotes .

उम्मीद है सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार ( sardar vallabhbhai patel quotes ) आपने पढ़ें होंगे और जाना होगा कि एक राजनेता होना, एक समाजसेवक होना क्या होता है। जीवन में कभी भी निराशा हो तो सरदार पटेल के विचार पढ़ लेना। जीवन में फिर से एक उम्मीद जागेगी, एक आशा जागेगी।

और हां, सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार सिर्फ पढ़ कर या सोशल मीडिया पर शेयर कर के मत छोड़ देना। सरदार पटेल के विचार जीवन ( sardar vallabhbhai patel quotes ) में अपनाने के लिए हैं सिर्फ किसी निबंध में लिखने लिए नहीं।

sardar vallabhbhai Patel hd image ko aap phone wallpaper bna kar rakhen।
Jisse aapke samne hamesha sardar vallabhbhai Patel ke vichar padhne ke liye rahenge।

अन्य महत्त्वपूर्ण लेख -:

स्वामी विवेकानंद जी के विचार

रामधारी सिंह दिनकर की कविताएं

मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.